बूस्टर डोज लगवाने में स्वास्थ्य विभाग की कोई रूचि नहीं

रायपुर bkb डेस्क:कोरोना की पहली और दूसरी लहर में रायपुर के छोटे से लेकर बड़े अस्पतालों तक एक भी बैड खाली नहीं थे. निजी अस्पतालों पर मरीजों ने खूब मनमानी करने के आरोप भी लगाए. लेकिन वे कोरोनाकाल में भगवान बनकर भी आएं और कई लोगों की जान भी बचाई. लेकिन आज आलम ये है कि वे लोगों की मदद के लिए अपने अस्पतालों में बूस्टर डोज लगवाने को लेकर भी कोई पहल नहीं कर रहे हैं.

baatkibaat

Read Previous

गाड़ी की चपेट में आने से चीतल की मौत

Read Next

गौठान में संचालित गतिविधियों से आर्थिक रूप से सबल बन रही हैं महिलाएं