किसान कल्याण समिति की मांगों पर विचार करने के लिए पुनः होगी बैढ़क

रायपुर bkb: आवास एवं पर्यावरण तथा वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर की अध्यक्षता में आज राजधानी के शंकर नगर स्थित उनके निवास कार्यालय में नवा रायपुर अटल नगर में आंदोलनरत किसानों के संबंध में एक महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई थी। बैठक में नगरीय प्रशासन मंत्री एवं आरंग विधायक डॉ. शिवकुमार डहरिया, विधायक अभनपुर श्री धनेन्द्र साहू एवं अपर मुख्य सचिव श्री सुबत साहू तथा संचालक ग्राम एवं नगर निवेश श्री जय प्रकाश मौर्य सहित नवा रायपुर विकास प्राधिकरण के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।बैठक में निर्धारित समय के उपरांत भी शंकर नगर स्थित आवास मंत्री श्री अकबर के निवास कार्यालय में नई राजधानी प्रभावित किसान कल्याण समिति के कोई भी पदाधिकारी तथा सदस्य उपस्थित नहीं हुए। इस दौरान नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने बताया कि बैठक में किसान कल्याण समिति के अध्यक्ष श्री रूपन चन्द्राकर तथा कार्यकारी अध्यक्ष समिति की उपस्थिति के लिये पूर्व सहमति प्रदान की गई थी। डॉ. डहरिया ने बताया कि किसान कल्याण समिति ने बैठक में उपस्थिति के लिये लिखित में पत्र देने कहा, लिखित में भी बैठक में उपस्थिति की सूचना दी गई, लेकिन किसान कल्याण समिति के पदाधिकारी उपस्थित नहीं हुए। अब किसान कल्याण समिति से चर्चा उपरांत पुनः अलग से तिथि निर्धारित की जाएगी।गौरतलब है कि विगत दिवस वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर ने छेरछेरा के पावन पर्व के अवसर पर उनके शंकरनगर स्थित शासकीय निवास कार्यालय छेरछेरा मांगने आये नवा रायपुर के किसानों को बड़ी ही विनम्रता और सम्मान के साथ धान का दान दिया था। उन्होंने इस मौके पर किसान मंच समिति के सभी पदाधिकारी एवं किसान भाईयों को छेरछेरा पर्व और शाकम्भरी जयंती की बधाई और शुभकामनाएं दी थी। मंत्री श्री अकबर को इस मौके पर किसान मंच समिति के पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने नवा रायपुर में पुनर्वास एवं पुनर्व्यवस्थापन की मांगों के संबंध में ज्ञापन सौंपा था। मंत्री श्री अकबर ने किसान भाईयों की मांगों के संबंध में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल एवं नवा रायपुर विकास प्राधिकरण के अधिकारियों से चर्चा कर उनकी मांगों का यथोचित समाधान किए जाने का भरोसा दिलाया था।

baatkibaat

Read Previous

पर्यवेक्षक पदों की भर्ती परीक्षा 23 जनवरी को दो पालियों में होगी

Read Next

18 वर्ष से अधिक के सभी नागरिकों को कोरोना से बचाव का पहला टीका लगाने के करीब पहुंचा छत्तीसगढ़